Categories
Chalisa

गर्भ संस्कार मंत्र (Garbh Sanskar Mantra)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

ऊं देवकी सुत गोविंद वासुदेव जगत्पते. देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गत:  मंत्र के फायदे : इस मंत्र का जाप गुणवान संतान प्राप्ति के लिए किया जाता है। इसके जाप से भगवान कृष्ण के समान संतान की प्राप्ति होती है। अगर आप गुणवान और स्वस्थ संतान चाहती हैं तो गर्भावस्था के दौरान रोजाना एक बार Read More

Categories
Chalisa

ॐ बागेश्वराय वीर वीराय हूँ फट स्वाहा (Om Bageshwaraya VeerVeeraya Hum Fat Swaha)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

ॐ बागेश्वराय वीर वीराय हूँ फट स्वाहा

यह मंत्र बागेश्वर धाम बालाजी (हनुमान जी) को समर्पित है। इस मंत्र के जाप से भक्तों को बालाजी भगवान की कृपा मिलती है और उनके कष्टों का अंत हो जाता है।

Read More

Categories
Chalisa

भूत-पिशाच निकट न आवे, महावीर जब नाम सुनावे (Bhoot Pisaach Nikat Nahi Aave Mahavir Jab Naam Sunave)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

भूत-पिशाच निकट न आवे, महावीर जब नाम सुनावे.

यह चौपाइ हनुमान चालीसा से लिए गए हैं यहाँ पर राम भक्त हनुमान की महिमा और शक्ति का वर्णन किया गया है. इन चौपाइयों में बताया गया है हनुमान जी का नाम लेने मात्र से भूत और पिशाच भक्तों के पास नहीं आते है और भूत पिसाच का नाश हो जाता है.

Read More

Categories
Chalisa

नासै रोग हरे सब पीरा, जपत निरंतर हनुमत बीरा (Nase Rog Hare Sab Peera Japat Nirantar Hanumat Veera)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

नासै रोग हरे सब पीरा, जपत निरंतर हनुमत बीरा ये चौपाई हनुमान चालीसा ली गई है इसमें बताया गया है कि हनुमान जी का नाम सुमिरन करने से भक्तों के सभी रोग दूर हो जाते हैं और वह निरोगी हो जाते हैं और सभी सभी कष्टों का अंत हो जाता है। अर्थ हे वीर हनुमान Read More

Categories
Chalisa

सृष्टिस्थितिविनाशानां शक्ति भूते सनातनि मंत्र (Srishti Sthiti Vinashanaam Shakti Bhoote Sanatani Mantra)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

सृष्टिस्थितिविनाशानां शक्ति भूते सनातनि।गुणाश्रये गुणमये नारायणि नमोऽस्तु ते॥ यह मंत्र देवी दुर्गा जिन्हें माँ आदि शक्ति कहते को ससमर्पित है. इस मंत्र को शक्ति प्राप्ति मंत्र भी कहते हैं इस मंत्र का जाप करने से शक्ति की प्राप्ति होती है. मंत्र का अर्थ जिसमें सृजन, पालन तथा संहार की शक्ति विद्यमान है तथा जो शाश्वत Read More

Categories
Chalisa

रोगों और समस्याओं के निवारण का मंत्र (Rogon aur Samasyaon ke Nivaaran ka Mantra)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि मे परमं सुखम्।रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि॥ इस मंत्र को रोगो का नाश करने वाला और सुख प्रदान करने वाला मंत्र मन जाता है। इस मंत्र का जाप करने से भक्तों के सभी दुखों का अंत होता है और सुख और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। यह मंत्र देवी Read More

Categories
Chalisa

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी मंत्र (Jayanti Mangala Kali Bhadrakali Kapalini Mantra)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु ते॥

यह एक शक्तिशाली मंत्र है जो देवी दुर्गा को समर्पित है। यह मंत्र:नवरात्रि को जाप किया जाने वाला विशेष मंत्र है। इस मंत्र में नवदुर्गा के कई नाम का स्मरण होता है। इस मंत्र को जपने वालों को मनवांछित फल की प्राप्ति भी होती है।

Read More

Categories
Chalisa Uncategorized

ॐ हं हनुमते नमः मंत्र (Om Ham Manumate Namah mantra)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

ॐ हं हनुमते नमः यह मंत्र हनुमान जी को समर्पित है। इस मंत्र के जाप से मनुष्यों को हनुमान जी की कृपा और आशीर्वाद मिलता है और उनके सभी कष्ट और बाधा दूर होती है। मंत्र के फायदे इस मंत्र के जाप से सभी भक्तों के भय का नाश होता है मन किसी भी प्रकार Read More

Categories
Chalisa

श्री राम रामेति रामेति मंत्र (Shri Ram Rameti Rameti Mantra)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

श्री राम रामेति रामेति, रमे रामे मनोरमे ।सहस्रनाम तत्तुल्यं, रामनाम वरानने ॥ श्री राम रामेति रामेति मंत्र का अर्थ। राम राम का जाप बड़ा ही मनोरम है और मन को भाने वाला है और यह पवित्र राम नाम भगवान विष्णु के हजार नाम के बराबर है। यह भगवान शिव माता पार्वती को समझते हुए कही Read More

Categories
Chalisa

माँ लक्ष्मीजी जी की आरती – ॐ जय लक्ष्मी माता (Maa Laxmi ji ki Aarti – Om Jai laxmi Mata)

हिंदी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

ओम जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निशिदिन सेवत, हरि विष्णु विधाता॥

ओम जय लक्ष्मी माता॥

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता।
सूर्य-चंद्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

दुर्गा रुप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता॥

ओम जय लक्ष्मी माता॥

Read More